वर्षा जल संरक्षण प्रणाली से वर्षा जल का संचय कैसे किया जाता है? और वर्षा जल संग्रहण चित्र सहित बारिश के पानी को इकठा करने के लाभ

वर्षा जल संरक्षण के उद्देश्य क्या है?

भारत में पर्याप्त वर्षा के बावजूद लोग पानी की एक-एक बूँद के लिये तरसते हैं तथा कई जगह संघर्ष की स्थिति भी पैदा हो जाती है। इसका प्रमुख कारण यह है कि हमने वर्षा जल का संचय नहीं करते और वह व्यर्थ में बहकर नदी नालों के माध्यम से दूषित पानी में बदल जाता है।

और इसी कारण कई इलाकों में सूखा और कई इलाकों में बाढ़ जैसे समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

 

बारिश के पानी को इकठा करने के लाभ

अतः वर्तमान जल संकट को दूर करने के लिये वर्षा जल संचय ही एक मात्र विकल्प है। वर्षा जल का इस्तेमाल करने के लिए इसे किसी भी तरीके का इस्तेमाल करके संचय करें। इसका एक तरीका वर्षा जल संग्रहण है। तालाब, झील और बडे जलाशय वर्षा जल संचय की कुछ पारंपरिक तरीके हैं। ये स्रोत न सिर्फ वर्षा जल का संचय करते हैं, बल्कि जल को भूमि के अंदर भेजने में मदद भी करते हैं। जो भूमि जल स्तर बढ़ाने में महत्वपूर्ण हैं

वर्षा जल संग्रहण | Rain Water Harvesting | बारिश के पानी को कैसे इकट्ठा कर इस्तेमाल करें?

तो आईए वर्षा जल संग्रहण की एक प्रणाली तैयार करें

वर्षा जल संग्रहण चित्र

बारिश के पानी को इकठा करने के लाभ

वर्षा जल संग्रहण क्या है?

छत के ऊपर वर्षा जल प्रणाली वर्षा जल संग्रहण की आधुनिक प्रणाली है। यह जलग्रहण प्रणाली छत के ऊपर तैयार की जाती है।

 

वर्षा जल संचय कैसे किया जाता है?

जब जल छत के ऊपर इकट्ठा होने लगता है तो उसे पाइपों के माध्यम से कुएं में भेजा जाता है क्योंकि यह भूमिगत जल को बढ़ाने में सहायक है

इसके अलावा जल को संग्रहण करने के लिए जल को फिल्टर के जरिए पहुंचाया जाता है फिल्टर तक पहुंचने से पहले जल स्त्रोत छिपे जालियों से गुजरता है। यह छिपी जालियां मलबों जैसे कि पत्तों और छोटे पत्थरों को रोकता है। फिल्टर सामान्य रूप से बजरी बालू या रेत और लकड़ी का कोयला या चारकोल से बनाया जाता है। जब जल इस परत से गुजरता है तो ठोस अशुद्धि दूर हो जाती है।

 

साफ पानी को यहां से भूमिगत टैंक में भेजा जाता है। भूमिगत टैंक का निर्माण जल संग्रहण का बेहतर तरीका है जिसके माध्यम से हम भूमि के अंदर पानी को संरक्षित रख सकते हैं। इस प्रक्रिया में वर्षा जल को एक भूमिगत गड्‌ढे में भेज दिया जाता है। इस तरीके में हम ज्यादा पानी को मिट्‌टी के अंदर बचाकर रख सकते हैं। साधारण रूप से भूमि के ऊपरी भाग पर बहने वाला जल सूर्य के ताप से भाप बन जाता है और हम उसका उपयोग नहीं कर पाते हैं। परंतु मिट्‌टी के अंदर का पानी आसानी से नहीं सूखता है और लंबे समय तक पंप के माध्यम से हम इसका उपयोग कर सकते हैं।

 

भूमिगत टैंक  से पानी को पंप करके घरेलू उपयोग के लिए घरों में पहुंचाया जाता है।

 

बारिश का पानी क्या काम मे लिया जा सकता है?

वर्षा जल को खेती, कपड़े साफ करने, तथा घर साफ करने के लिए, नहाने, गाड़ी साफ करने, गर्मी के मौसम में कूलर में भी आप इस्तेमाल कर सकते हैं।

साथ ही कारखानों द्वारा पीने योग्य पानी को दूषित कर दिया जाता है, तो इसमें भी वर्षा जल का संचय कर उस पानी को इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

तो हमने देखा कि वर्षा जल संग्रहण जल संरक्षण का सबसे बढ़िया साधन है और इससे हमारी जल की आवश्यकता निपट सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.