मानव और जानवरों का कंकाल तंत्र तथा उनके बड़े भाग

अस्थिपंजर या कंकाल

जैसा कि तुम जानते हो अधिकतर बड़े जानवर जो जमीन पर रहते हैं, चिड़िया जो उड़ती है और मछलियां जो पानी में रहती है तथा मेंढक जैसे जानवर जो पानी और जमीन दोनों पर रहते हैं इन सभी के हड्डियों के अस्थि पंजर या कंकाल होते हैं। और हमारा कंकाल तंत्र पूर्वजों से कैसे विकसित हुआ। उनसे ही मानव कंकाल का विकास हुआ है।

उन्हें प्रकृति ने बनाया है जिससे यह जानवर अपने पर्यावरण में जीवित बने रह सकें।

मानव कंकाल और जानवरों के कंकाल तंत्र में क्या अंतर है? Difference between Human and Animal Skeleton

हस्थी पंजर (endoskeleton)

जानवरों के कंकाल को हस्थीपंजर या endoskeleton कहते हैं।

जिन जानवरों को तुम जानते हो उनके और मनुष्य के कंकाल के बीच कई समानताएं होती है। पर क्या तुम बता सकते हो कि इनके बीच अंतर क्या होते हैं।

इन चित्रों को ध्यान से देखो और सोचो कि इनके कंकालों में क्या अंतर है?

तुम्हें आखिर क्या लगता है कि यह अंतर क्यों है?

हमारा कंकाल मांसपेशियों को एक साथ रखने में सहायक होता है।

मुख्य अंगो या अवयवों की रक्षा करता है और हमें बहुत सारा हिलने डुलने के लिए लचीला देता है।

जमीन पर रहने वाले अधिकतर जानवरों के कंकालों की तरह हमारे कंकाल में भी कुछ मुख्य बड़े भाग होते हैं-

मानव कंकाल में बड़े भाग

  • खोपड़ी

  • मेरुदंड या रीढ़ की हड्डी

  • कंधे की हड्डी

  • पेड़ों की हड्डियां

  • सीना या छाती

  • बाजू और हाथ

  • टांग और पैर

 

अभी आपको इतनी जानकारी मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published.