वनस्पति ऊतक (Plant Tissue): मेरिस्टोमेटिक ऊतक व स्थायी उत्तक क्या है?

वनस्पति ऊतक (plant tissue)

एक समान आकृति, संरचना और उत्पत्ति की कोशिकाओं का समूह है जो एक विशेष प्रकार के कार्य को संपन्न करते हैं। उत्तक कहलाते हैं।

plant tissue culture in hindi, organogenesis in plant tissue culture in hindi, पादप ऊतक के कार्य, padap utak ke prakar, पादप ऊतक संवर्धन के जनक कौन हैं, पादप उत्तक का चित्र, जड़ के शीर्ष पर कौन उत्तक पाया जाता है, पौधे में ऊतक क्या होता है?, पौधों के ऊतक कितने प्रकार के होते हैं?, वनस्पति विज्ञान में ऊतक क्या है?, पौधों के ऊतक कितने प्रकार के होते हैं?, पौधों में कौन सा ऊतक पाया जाता है?, पौधों के 3 ऊतक प्रकार और उनके कार्य क्या हैं?, पादप ऊतक, संयोजी ऊतक, ऊतक के कार्य, जंतु ऊतक के प्रकार, उपकला ऊतक, ऊतक के प्रकार, mपादप ऊतक के प्रकार, ऊतक क्या है, प्लांट टिश्यू कितने प्रकार के होते हैं?, What are the 3 types of meristems, What is meristematic tissue and its function, What is meristematic tissue class 9, Where meristematic tissue is found, What are the 4 types of tissue in a plant,What is plant tissue class 9, Where is plant tissue located, What is the most important tissue in plants

वनस्पति ऊतकों को दो प्रमुख वर्गों में वर्गीकृत किया गया है।

1.मेरिस्टोमेटिक ऊतक (meristematic tissue)

2.स्थायी उत्तक (permanent tissue)

 

1.मेरिस्टोमेटिक ऊतक (meristematic tissue)

मेरिस्टोमेटिक ऊतक में एक जैसी समानताओं वाली कोशिकाएं होती हैं जो नई कोशिकाओं को बनाने के लिए विभक्त होने की योग्यता रखती है। पौधों के उन क्षेत्रों में वृद्धि होती है जहां मेरिस्टोमेटिक ऊतक होते हैं।

मेरिस्टोमेटिक ऊतक की कोशिकाओं के विभक्त होने पर वृद्धि होती है। बड़े केन्द्रको के साथ छोटी, पतली, दीवार वाली कोशिकाओं से मेरिस्टोमेटिक ऊतक बनते हैं।

रिक्तिका या तो अनुपस्थित होती हैं या फिर बहुत छोटी और उनमें कोई अंतर कोशिक स्थान भी नहीं होता।

मेरिस्टोमेटिक ऊतक द्वारा उत्पन्न कोशिकाएं आरंभ में एक सी होती हैं और जैसे जैसे वे विकास करती हैं वैसे वैसे विभिन्न प्रकार के स्थायी उत्तकों में विशिष्ट होती हैं।

एक गन्ने का पौधा और बरगद के पेड़ के बीच वृद्धि के अंतर पर विचार करें मेरी स्टेम विकसित पौधे के आकार पर भी प्रभाव डालता है क्योंकि तदन्तर वृद्धि के पैटर्न को मेरी स्टेम में रखा जाता है।

एक पौधा सिरों पर विकास कर सकता है या उसका तनाव और अधिक चौड़ा हो सकता है या उसकी ऊंचाई बढ़ सकती है।

वृद्धि के प्रकार और स्थान के आधार पर मेरिस्टोमेटिक को शीर्षस्थ,पाशर्व या अंतर्विष्ट के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

शीर्षस्थ विभ्योजत (vertex separated)

जड़ों और अंकूरों के सिरों पर शीर्षस्थ,विभ्जोतक तक पाए जाते हैं। सिरों पर कोशिका विभाजन के फलस्वरूप तनों या जड़ों में से वृद्धि होती है।

पाशर्व विभ्योजत (Lateral dissociation)

पाशर्व या संवहनी केंबियम के पाशर्व भाग से उत्पन्न नए ऊतकों द्वारा कुछ पौधों के व्यास बढ़ते हैं। पौधों की लंबाई के साथ ही पाशर्व विभ्योजत तक होता है।

इस पाशर्व विभ्योजत में कोशिका विभाजन के फलस्वरूप तने या जड़ के खेरो में वृद्धि होती है।

पाशर्व विभ्योजत तक या केंबियम के पार्षद भाग से उत्पन्न नए ऊत्तकों द्वारा कुछ पौधों के व्यास बढ़ते हैं। पौधों की लंबाई के साथ है पाशर्व विभ्योजत तक होता है

ये उत्तक छाल के नीचे बीज पत्री जड़ों और तनों के संवहनी गांठों में पाए जाते हैं।

अंतर्विष्ट विभ्योजत (contained separable)

आन्तरिक गार्ड क्षेत्रों या दो गार्ड के बीच तने के भाग में अंतर्विष्ट विभ्योजत वे जो तक स्थित होते हैं।

अंतर्विष्ट विभ्योजत नई कोशिकाओं को उत्पन्न करती है जो तने की आंतरिक काट वाले क्षेत्र के लम्बाई का विकास करती है।

2.स्थायी उत्तक(permanent tissue)

स्थायी ऊतक में कुछ ऐसी कोशिकाएं होती हैं जो विभक्त होने की योग्यता खो देती हैं और कुछ विशेष कार्य संपन्न करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.