अणु और अणु परमाणु भार : आणु की खोज किसने की थी, परमाणु का नामकरण और परमाणु द्रव्यमान को व्यक्त कैसे करे?

अणु और अणु परमाणु भार 

 

कागज का एक टुकड़ा ले तथा उसे छोटे छोटे टुकड़ों में काट दें। सबसे छोटा टुकड़ा आप कौन सा पा सकते हैं। यदि आपने ये कार्य ठीक प्रकार किया है तो आप छोटे से बाल की तरह कागज की चीजों को पा सकते हैं। आप इन छोटे टुकड़ों को अपनी आंखों से देखने में भी समर्थ हो सकेंगे।

 

प्राचीन समय में वैज्ञानिक इस बात से आश्चर्य चकित थे कि एक पदार्थ के रासायनिक गुण को सुरक्षित रखते हुए उसको किस हद तक तोड़ा जा सकता है या उसके टुकड़े किए जा सकते हैं।

ये कहा जाता था कि भारतीय दर्शनिक महर्षि कणाद ने लगभग 500 ईसा पूर्व सूक्ष्म अविभाज्य कणों के अस्तित्व के सिद्धांत को प्रतिपादित किया।

परमाणु का नामकरण

लगभग उसी समय डेमोकिक्रटिक प्राचीन ग्रीक ने एक दार्शनिक ने एक सूक्ष्म अविभाज्य कण के अस्तित्व पर एक विधान प्रस्तावित किया। उन्होंने इस छोटे कण को परमाणु (atom) कहा।

a का अर्थ नहीं और tom का अर्थ विभाज्य। अतः एक परमाणु कितना छोटा है। तुलना के लिए हम एक पेन का शीर्ष लेते हैं।

एक पेन का शीर्ष करोडों परमाणुओं से मिलकर बनता है। यदि आप पेन का शीर्ष के परमाणुओं को अलग अलग कर सकते हैं।

आपके पास पृथ्वी के प्रत्येक व्यक्ति को एक परमाणु देने के लिए पर्याप्त परमाणु होगा और फिर भी कुछ परमाणु बच जाएगा। क्या अब आप समझते हैं कि एक परमाणु कितना छोटा है।

जॉन डाँल्टन

1808 में जॉन डाँल्टन एक अंग्रेज रसायनज्ञ तक न्यूटन ने अपने परमाणु सिद्धांत को प्रस्तुत किया जो पदार्थों पर कभी अध्ययनों के लिए आधार है।उसके सिद्धान्तों की कुछ धारणा को तब असत्य सिद्ध किया गया है।

अब हमें    ज्ञात हो गया है कि एक परमाणु भी सूक्ष्म कणों से बना होता है। नए कणों को जो एक परमाणु के भाग है नियमित रूप से खोजे जा रहे है

उदाहरण के लिए- क्वार्कस  व लेपटोस ।

परमाणु द्रव्यमान

परमाणु बहुत सूक्ष्म होते हैं परंतु उनमें द्रव्यमान होता है। कल्पना करें कि एक चीटी के भार को टन की इकाई का उपयोग करके तौलने की कोशिश करें।

परमाणु द्रव्यमान को व्यक्त कैसे करे?

एक परमाणु का भार ग्राम व किलोग्राम में व्यक्त करने की कोशिश करते हैं तो और भी अधिक मुश्किल होता है अतः वैज्ञानिकों ने परमाणु के द्रव्यमान की गणना करने के लिए एक नई विधि की रचना की।

जैसे कि यह संभव नहीं है एक परमाणु के द्रव्यमान को शाब्दिक रूप में मापे। वैज्ञानिकों ने तुलनाओ  का प्रयोग करके इसे परमाणुओं के द्रव्य मानों के रूप में दर्शाने का निर्णय लिया। यह कार्य उन्होंने तत्वों के उन अनुपातो का निरीक्षण करके किया जो एक दूसरे के साथ मिलकर बने हैं।

 

उदाहरण के लिए – तीन ग्राम कार्बन 4 ग्राम आक्सीजन से मिलकर कार्बन मोनोऑक्साइड बनता है। उस अनुपात को मानो जिसमें वे प्रतिक्रिया करती हैं।

परमाणु द्रव्यमान  इकाई को  परिभाषित कैसे करे?

यदि हम कार्बन परमाणु के परमाण्विक द्रव्यमान को एक परमाणु द्रव्यमान इकाई के रूप में परिभाषित करते हैं  तो ऑक्सीजन के एक परमाणु का परमाणु द्रव्यमान चार बटे तीन परमाणु द्रव्यमान इकाई होगा या एक पूर्णांक तीन तीन परमाणु द्रव्यमान इकाई होगा।

तत्व जो एक मानक के रूप में प्रयोग किया जाता था वैज्ञानिक ज्ञान के उन्नति के साथ कई वर्षों से परिवर्तित होता गया।

 

सन 1800 इन के प्रारंभ में हाइड्रोजन तुलना मानक रूप में प्रयोग किया जाता था। 1800 के अंत में ऑक्सीजन की तुलना मानक के रूप में प्रयोग किया जाता था क्योंकि यह अधिकांश तत्वों के साथ अभिक्रिया करता था

और इसलिए अन्य तत्वों परमाणु द्रव्यमान की गणना करना आसान था। इसके अतिरिक्त ये अधिकांश तत्वों के परमाणु द्रव्यमान को पूर्ण अंकों के रूप में प्रस्तुत करता था।

 

1961 वर्तमान मानक: कार्बन 12 समस्थानिक को तुलनात्मक मानक के रूप में अपनाया गया। कार्बन 12 के एक परमाणु के द्रव्यमान का एक बटे बारवांँ वाला भाग एक परमाण्विक द्रव्यमान इकाई है।

परमाण्विक द्रव्यमान को पहले परमाण्विक भार कहते थे। हालांकि धीरे धीरे ये पद चलन से बाहर हो गया। आपेक्षिक परमाणु द्रव्यमान को अब एक परमाणु की औसत द्रव्यमान के रूप में परिभाषित किया गया है।

 

जब हम कार्बन 12 परमाणु की तुलना एक बटे बारवें भाग के द्रव्यमान के साथ करते हैं अंतरराष्ट्रीय विशुद्ध और अनुपयुक्त रसायन संघ की सिफारिशों के आधारों पर यूनिफाइड द्रव्यमान शब्द को अब परमाणु द्रव्यमान इकाई के स्थान पर दर्शाया जाता है।

 

कुछ तत्वों के परमाणु द्रव्यमान के लिए तालिका को देखिए। परमाणु द्रव्यमान वर्तमान दिन प्रणाली में कार्बन 12 के एक परमाणु के द्रव्यमान के एक बटे बारह भाग के साथ तुलना पर आधारित है।

 

प्रश्न.1 argan ka parmanu bhar kitna hota hai

उत्तर.argan ka parmanu bhar 40 hota hai

 

प्रश्न.2 परमाणु भार से आप क्या समज थे हो

उत्तर.परमाणु बहुत सूक्ष्म होते हैं परंतु उनमें द्रव्यमान होता है। कल्पना करें कि एक चीटी के भार को टन की इकाई का उपयोग करके तौलने की कोशिश करें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.