फ्लैट(पतला) पेट पाने के लिए हम किन टिप्स को अपनाएं ?

आज के इस दैनिक युग में सभी को अपने शरीर को लेकर बहुत चिंता है लोग अपने शरीर और सेहत को लेकर बहुत सख्त है क्योंकि इस modern society मैं आपका फिट रहना बहुत मायने रखता है ।
क्योंकि आपकी फिट पर्सनैलिटी से आपके जीवन पर बहुत फर्क पड़ता है क्योंकि आजकल सभी को एक फिट पर्सनैलिटी वाला व्यक्ति ही पसंद होता है इसलिए शरीर का स्वास्थ और फिट रहना बेहद जरूरी है किसी को भी तोंद वाला पेट सही नहीं लगता है क्योंकि वह आपकी पर्सनैलिटी पर कहीं दाग लगा देता है और वह आपकी सेहत के लिए भी अच्छा नहीं है क्योंकि ज्यादा फैट जमा होने के कारण हमारी तोंद और भी बढ़ने लगती है इसीलिए आज हम इस पोस्ट में आपको यह बताएंगे कि पेट को पतला करने के लिए आप किन टिप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं

साधारण भाषा में कहे तो पेट में दो प्रकार की वसा होती है जो हमारे मोटे पेट का कारण होती है आपके पेट और कमर के साइड मोटा किसी बर्गर या fast food का नहीं होता है वह वसा के कारण मोटा होता है हमारे शरीर में दो प्रकार की वसा होती है जिनमें से हमारी एक वसा हमारे त्वचा नीचे होती है जिसे तो त्वचियवसा कहते हैं और और दूसरी वसा आत की वसा होती है जो हमारे उदर गुहा में।होती है और यह हमारे आंतों और यकृत , पेट, गुर्दे , आदि को गिरे हुए होती है जो हमारे हृदय रोग टाइप 2 मधुमेह और अधिक कोलेस्ट्रॉल स्तर और अधिक रक्तचाप आदि जैसी समस्याओं से जुड़ी हुई होती है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होती है। और यह वसा हमारे हार्मोन साथ हस्तक्षेप करें उनको प्रभावित करती है जिससे हमारे शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है

पेट की चर्बी कम करने के लिए  उपाय :-

  1. एक स्वस्थ आहार का सेवन करे :-
    एक स्वस्थ आहार का सेवन करने से हमारा शरीर भी स्वस्थ रहता है जैसे फल सब्जियां और दुबले प्रोटीन आदि आहार ले जिनमें अस्वस्थ वसा की कमी होती है और अपने खाने में अधिक फाइबर का सेवन करें क्योंकि फाइबर को पचाने में लंबा समय लगता है और यह हमारे रक्त में शर्करा के स्तर को कम करता है और स्थिर रखने की कोशिश करता है क्योंकि जब आप चीनी युक्त उच्च खाद्य पदार्थ यूज करते हो। तो हमारे शरीर में शर्करा की वृद्धि होती है जब चीनी का स्तर कम होता है तो यह हमारे शरीर को भूख के संदेश भेजता है जिससे हमारे फैट में वृद्धि होने लगती है फाइबर में हम इन चीजों का इसतेमाल कर सकते है
    1.चमकीले रंग की सब्जियाँ
    2.पत्तेदार साग
    3.रसभरी, ब्लूबेरी और ब्लैकबेरी
    4.बीन्स, दाल, और फलियांखाने में स्वास्थ्य वसा शामिल करें
    स्वस्थ वसा यानी मोनोअनसैचुरेटेड वसा हमारे रक्त में कोलेस्ट्रोल और इंसुलिन के स्तर को कम करने में मदद करती है इसीलिए हमें इस वसायुक्त पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिनमें से कुछ स्रोत इस प्रकार है
    1.जैतून
    2.दाने और बीज
    3.एवोकाडो
    4.जैतून का तेल
    5.रुचिरा तेल
    6.मूंगफली का तेल
    प्रोटीन के रूप में लीन प्रोटीन चुनेFoods to Avoid :-
    1.Soft drinks
    2.Inflammatory foods
    3.Sauces and dressings
    4.Processed foods

    अश्वगंधा के सेवन से होने वाले फायदे और नुकसान? अपनी इम्यूनिटी मजबूत करे |

  2. फैट कम करने के लिए कसरत करें :-
    वेट ट्रेनिंग से हार्मोन रिलीज़ होते हैं, जैसे टेस्टोस्टेरोन और मानव विकास हार्मोन, जो वसा हानि को बढ़ावा देते हैं। साथ ही, हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि, अगर चालाकी से किया जाए, तो वजन उठाने से एक टन कैलोरी बर्न हो सकती है।

  3. कार्डियो करें फैट को कम करने के लिए :-

  4. शराब का सेवन कम करें
  5. फैट कम करने के लिए ज्यादा पानी पियें:-

    हाइड्रेटेड रहना पेट की वसा को कम करने के लिए एक स्वस्थ योजना का एक अनिवार्य हिस्सा है। लेकिन पीने का पानी भी आपके चयापचय को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।
    हर समय अपने साथ पानी की बोतल रखें। अपने आप को पूर्ण रखने के लिए नियमित रूप से इससे सीप करें। यदि आपके पास आमतौर पर एक सोडा है, तो पानी आपकी प्यास को संतुष्ट करने में मदद करने के लिए एक उत्कृष्ट प्रतिस्थापन है।
    प्रत्येक भोजन से पहले एक गिलास पानी पीना भी पेट की चर्बी से छुटकारा पाने के लिए एक उपयोगी खाने की आदत है।
  6. तनाव कम करने से भी फैट काम होता है:-
    शानदार अध्ययनों से पता चला है कि तनाव कम करने से आपका पेट की चर्बी कम हो सकती है। कैसे? जब आप कम तनावग्रस्त होते हैं, तो आप कम कोर्टिसोल, तनाव हार्मोन का उत्पादन करते हैं। अध्ययन से पता चलता है कि पेट के चारों ओर कथित तनाव, कोर्टिसोल के स्तर और अतिरिक्त वसा के बीच एक कड़ी है।
  7. अच्छी नींद लेने से भी फैट होता है :-
    बहुत कम नींद कई स्वास्थ्य जोखिमों से जुड़ी होती है। एक पांच साल के अध्ययन में पाया गया कि 40 साल से कम उम्र के वयस्क जो पांच घंटे या उससे कम सोते थे, उनके पेट के आसपास काफी अधिक वसा होती है। लेकिन बहुत अधिक सही नहीं है, या तो – आठ घंटे से अधिक सोने वाले युवा वयस्कों ने भी पेट वसा को जोड़ा। (यह 40 साल से अधिक उम्र के लोगों में नहीं पाया गया।) साक्ष्य से पता चलता है कि हमारे शरीर को इष्टतम स्वास्थ्य के लिए गुणवत्ता आराम का संतुलन चाहिए।

अगर यह पोस्ट आपको अच्छी लगे तो इसे शेयर करें और हमें इंस्टाग्राम (@basicofscience) पर फॉलो करें और हमारी साइट बेसिक ऑफ साइंस में आने का आपका धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *